Hindi ( हिंदी)


प्रश्न : तुलसीदास का जीवन परिचय दीजिये ?

उत्तर : तुलसीदास का जीवन परिचय हैं :
जन्म: 1532
निधन: 1623
तुलसीदास (1532-1623) एक महान भारतीय कवि और दार्शनिक थे। तुलसीदास जी ‘रामचरितमानस’ के रचयिता हैं, जो अब तक के लिखे गए सबसे महान महाकाव्यों में से एक है। तुलसीदास जी का पूरा नाम गोस्वामी तुलसीदास था और उनका जन्म 1532 ईसवी में राजापुर जिला बांदा, उत्तर प्रदेश, भारत में मुगल सम्राट अकबर के शासनकाल में हुआ था।
तुलसीदास जन्म से सरयूपारीण ब्राह्मण थे और इनको बाल्मीकि ऋषि, जिन्होंने संस्कृत में रामायण की रचना की थी, का अवतार माना जाता है। तुलसीदास आत्माराम शुक्ल दुबे और हुलसी के पुत्र थे और बचपन में इनको तुलसीराम के नाम से जाना जाता था। यद्यपि तुलसीदास का बचपन गरीबी और कष्ट में गुजरा था। तुलसीदास भगवान राम के सच्चे अनुयायी थे और शूकर-क्षेत्र में अपने गुरु, नरहरि-दास से शिक्षा ग्रहण करते थे। तुलसीदास का विवाह बुद्धिमती (जिन्हें रत्नावली के नाम से भी जाना जाता है) से हुआ और इनसे तारक नाम का एक पुत्र भी हुआ।
तुलसीदास की भावनाएं पूरी तरह से अपनी पत्नी से जुड़ी हुई थी, जैसा कि उससे संबंधित एक कहानी प्रचलित हैं, वह अपनी पत्नी से इतना प्रेम करते थे कि अपनी ससुराल (पत्नी के मायके) में बगल का घर लेकर रहने लगे थे, हालांकि जब यह बात उनकी पत्नी को मालूम हुई, तो रत्नावली ने उनके प्रेम का तिरस्कार करते हुए कहा कि जितना प्रेम मुझसे करते हो, उतना प्रेम भगवान राम से करना चाहिए, यह सब सुनकर तुरंत ही तुलसीदास ने मोह-माया छोड़कर एक तपस्वी का जीवन व्यतीत करने लगे।
अगले कुछ वर्षों तक, तुलसीदास ने पूरे भारत का भ्रमण किया, कई तीर्थस्थल पर जाकर भगवान राम की खोज की और अपने मन को आध्यात्मिकता की ओर लगाया। फिर तुलसीदास जी अयोध्या ठहरे, और यह वही स्थान था जहाँ इन्होंने भगवान राम के दर्शन किए, जिन्होंने इनको अवधी भाषा में रामायण की रचना करने के लिए प्रेरित किया, जो उस समय लोगों द्वारा बोली जाने वाली सामान्य भाषा थी।
तुलसीदास जी ने 1574 से अपना लेखन कार्य आरम्भ किया, और कई साहित्यिक कृतियाँ लिखी, हालांकि उनकी सबसे महान कृति ‘रामचरितमानस’ (राम के कर्यों का विवरण) नामक महाकाव्य है, इसमें सुन्दर कविताएं लिखी हुई हैं, जिनको ‘चौपाई’ के नाम से जाना जाता है, यह कविताएं केवल भगवान राम को समर्पित हैं। तुलसीदास जी ने अपने आप को भगवान को समर्पित करके उद्धार प्राप्त करने के मार्ग पर बल दिया। तुलसीदास द्वारा रचित कुछ अन्य महान साहित्यिक कृतियों में दोहावली, कवितावली, गीतावली, कृष्णावली, विनयपत्रिका और देव हनुमान की स्तुति की गई बहुत सम्मानित कविता हनुमान चालीसा शामिल है। इनकी लघु रचनाओं में वैराग्य संदीपनी, बरवै रामायण, जानकी मंगल, रामलला नहछू, पार्वती मंगल और संकट मोचन शामिल हैं।
गोस्वामी तुलसीदास की रचनाओं की मुगल शासक अकबर और जहाँगीर ने प्रशंसा की थी, 1623 में, तुलसीदास जी 91 वर्ष की आयु में, पवित्र शहर बनारस में परलोक सिधार गये। आज भी, तुलसीदास के लेखन में उनकी गहन भक्ति और दार्शनिक विचारधाराओं का एकीकरण प्रदर्शित होता है, ऐसी उत्कृष्ट साहित्य रचना करने के लिए वह सबसे महान हिंदी कवियों में से एक बन गये।