entrepreneurship-development

प्रश्न 4 परियोजना प्रतिवेदन के उद्देश्यों का वर्णन कीजिए।

उत्तर :परियोजना प्रतिवेदनके उद्देश्य

परियोजना प्रतिवेदन के आधार पर उद्योग का पंजीकरण, उद्योग लगाने हेतु भूमि का आबंटन, ऋण स्वीकृति, अनुदान स्वीकृति, बिक्री पर छूट, कच्चे माल के कोटा का आबंटन एवं अन्य सहायतायें आदि का लाभ मिलता है। अतः प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करना उद्यमी का एक अति आवश्यक तथा लाभप्रद कार्य है। परियोजना प्रतिवेदन के मुख्य उद्देश्य निम्न हैं

(i) परियोजना प्रतिवेदन का मुख्य उद्देश्य विभिन्न विनियोग अवसरों का मूल्यांकन करना है ताकि किसी श्रेष्ठ विनियोग प्रस्ताव का चयन किया जा सके ।

(ii) वित्तीय सहायता प्राप्त करने हेतु विभिन्न बैंकों, वित्तीय संस्थाओं तथा विनियोग निगमों को परियोजना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जाना जरूरी होता है। इसी आधार पर वे विनियोग प्रस्ताव की लाभ दायकता तथा व्यवहार्यता का अध्ययन करते हैं एवं सन्तुष्ट होने पर वित्तीय सहायता उपलब्ध कराते हैं।
(iii) विभिन्न दशाओं में परियोजना प्रतिवेदन उद्योग निदेशालय, सरकारी विभाग तथा जिला उद्योग केन्द्र को भेजना आवश्यक होता है। परियोजना के पंजीयन तथा अनुमोदन के लिए इसकी जरूरत होती है।

(iv) परियोजना प्रतिवेदन से अनुमानित लागत व सम्भावित आय की तुलनात्मक समीक्षा कर के नवीन परियोजनाओं की व्यावसायिक लाभ देयता तथा सुदृढ़ता की जाँच की जा सकती है।

(v) इससे परियोजना के उद्देश्यों एवं उपलब्ध साधनों की परिसीमाओं का ज्ञान किया जा सकता है। यह प्रतिवेदन वास्तव में परियोजना के क्रियान्वयन के लिए एक कार्य-योजना का कार्य करता है।

(vi) परियोजना प्रतिवेदन शुरू की जाने वाली परियोजना का एक संक्षिप्त विवरण तथा दर्पण है। यह परियोजना के संबंध में विभिन्न शंकाओं तथा जिज्ञासाओं का समाधान पेश करता है। इस तरह यह उद्यमी के समयतथा शक्ति को बचाता है। ।

(vii) यह सरकार व अन्य संस्थाओं द्वारा करों में छूट, आर्थिक सहायता, सुविधायें तथा प्रेरणायें प्रदान करने में एक उपयुक्त आधार प्रदान करता है।

(vii) परियोजना प्रतिवेदन विनियोग निर्णयों हेतु एक व्यवस्थित दृष्टिकोण है। उद्यमी इसके आधार पर अपनी परियोजना में भावी सुधार कर सकता है। यह उद्यमी हेतु एक पथ-प्रदर्शक का कार्य करता है।


2018